शेल्टर होम में बच्चियों से करवाते थे फर्श साफ,बड़ी बच्चियों को शाम 4 बजे ले जाते थे बहार

198

उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले से शेल्टर होम में मुजफ्फरपुर जैसा एक और दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है।जी हॉ हम आप को बता दें कि देवरिया के विंध्यावासिनी महिला प्रशिक्षण एंव समाज सेवा संस्थान से भागी एक 10 साल की बच्ची ने शेल्टर होम के संचालको पर जो आरोप लगाएं है। वो वाकई चौकाने वाले है।

Whatsapp Can follow this Link

सूत्रों के मुताबिक बताया जा रहा है कि शेलटर होम से छूटने के बाद जिस प्रकार से बच्ची भागी, भागते हुए सीधे महिला थाने पहुंची। वंहा पहुंचने के बाद बच्ची ने शेल्टर होम में चल रही गतविधियों के बारे में बताया है। बच्ची ने बताया कि मैं उस वक्त शेल्टर होम की पहली मंजिल पर थी जब वहां की इनचार्ज गिरिजा त्रिपाठी ने मुझे बुलाया और ग्राउंड फ्लोर की सफाई करने को कहा।

इसके बाद उनके पास एक फोन कॉल आई और वह बात करने लगीं। मुझे इस दौरान भागने का मौका मिल गया। मैं बिना एक सेकंड गवाएं वहां से भागी और पुलिस स्टेशन पहुंची। तो वंही बच्ची ने मीडिया सेबात करते हुए बताया है कि जो मेरे साथ बड़ी लड़किया थी उनको शाम 4 बजे मैडम गिरिजा के साथ कार में कंही ले जाया था और अगली सुबह उन्हे वापस लाया जाता था।उसने पुलिस को बताया है कि अलग-अलग रंग की कार रोजाना आती थी और बड़ी लड़कियों को लेकर चली जाती थी।

जब वो लड़कियां वापस आती थी तो हम लोगों को देखकर बहुत रोती थी। और हम जैसी छोटी बच्चियों से फर्श साफ करवाई जाती थी।और दूसरे काम करने को मजबूर किया जाता था।अगर हम उनकी बात न माने तो अलग-अलग लोग हमे पीटते है।

तो वंही हम आप को बताते चलें कि शेल्टर होम से छुड़ाई गई 24 लड़कियों की मेडिकल रिपोर्ट मंगलवार को सामने आ सकती है। इसके लिए एक मेडिकल बोर्ड गठित किया गया है।जिसे मेडिकल की जॉच करने के लिए सौपा गया है।इस बोर्ड के देवरिया के सीएमो डाँ धीरेंद्र कुमार लड़कियों के साथ यौन उत्पीड़न की जॉच कर रहे है। सीएम के साथ महिला डाक्टरों की टीम भी मदद कर रही है।मेडिकल बोर्ड के एक सदस्य ने बताया है कि रिपोर्ट मंगलवार को 12 बजे रात तक सामने आ सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.